Sunday, April 18, 2010

हम दायित्व निभाएंगे

नहीं , चिंतित होने की कोई बात नहीं
इन्टरनेट
बच्चों की किताबों
खिलौने की दुकानों में
अब भी नजर आते हैं ढेर सारे पशु-पक्षी
हम इन्हें दिखाएंगे बच्चों को
और बताएंगे कि
ऐसे होते थे चीता और बाघ
यूं होती थी गोरेया
और वह
जो काले रंग का है, उसे कौवा कहा जाता था
और यह भी कि जब वह छत की मुंडेर पर बोलता था
तो लोग शगुन मानते थे
रिंगटोन से निकलती कू-कू सुनाएंगे बच्चों को
और बताएंगे कि कुछ इसी तरह कूकती थी कोयल
माल से पानी की बोतल खरीदकर लौटते समय बताएंगे
कि रस्सी से बाल्टी बांधकर कुएं में डालनेभर से
मिल जाता था शुद्ध-शीतल पानी
हम बच्चों को बताएंगे
जरूर बताएंगे
और इस तरह आनेवाली पीढ़ी के लिए अपना दायित्व निभाएंगे।

6 comments:

  1. सुंदर पोस्ट

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छे विचार हैं...

    ReplyDelete
  3. bahut khub

    acha socha he aap ne


    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सटीक व्यंग्यपूर्ण कविता लिखी है. पढके मजा आ गया. पर चैतन्यता कितनी आई कह नहीं सकता !!

    ReplyDelete
  5. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  6. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete